If You Think

Change-Character-Hindistatus

अगर आप सोचते हैं की आप, आप नहीं बल्कि कोई और होते,
तो आप अपने अंदर के व्यक्तित्व को व्यर्थ कर रहे हैं।
याद रखिये हर व्यक्ति ख़ास और अद्वितीय होता है।


Post Comment

thirteen + 14 =

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)